Sun. Oct 24th, 2021

    नई दिल्ली । भारत में कोरोनावायरस संक्रमण रविवार को नई ऊंचाइयों पर पहुंचा जब 60,409 नए संक्रमित मिलने के साथ ही पीड़ितों की संख्या बढ़कर 22 लाख 12 हजार 429 हो गई। रविवार को 1004 पीड़ितों की कोरोना के चलते जान गई और मृतकों की संख्या 44,457 पहुंच गई। इन भयानक आंकड़ों के बीच सुकून की खबर यह है कि देश में अब तक 15 लाख 31 हजार 849 लोगों को कोरोना से मुक्ति मिल गई है और भारत में रिकवरी रेट 69.23% हो गया है।
    बीते लगभग 1 हफ्ते से दुनिया में प्रतिदिन मिलने वाले मरीजों में से सर्वाधिक भारत में ही मिल रहे हैं। संक्रमण के मामले में अमेरिका और ब्राजील भारत से भले ही आगे हों, किंतु नए मरीजों के मामले में भारत की स्थिति अब चिंताजनक होती जा रही है। यद्यपि भारत में मृतकों की संख्या इतनी अधिक नहीं है और यह। 2.009 % ही है। रविवार को मिले नए संक्रमित मरीजों का विश्लेषण करें तो 60,409 नए संक्रमण के मुकाबले 1004 मौतें हुई हैं जो कि 1.66 प्रतिशत है। विश्व स्वास्थ्य संगठन का कहना है कि 1% अथवा उससे कम नई मौत प्रतिदिन होती है तो फिर कोरोना का स्तर खतरनाक नहीं माना जा सकता। फिलहाल भारत में विश्व स्वास्थ्य संगठन के आकलन से दोगुनी मौतें हो रही हैं जोकि चिंताजनक है, हालांकि खतरनाक नहीं है।
    राज्यवार विश्लेषण करें तो पता चल रहा है कि देश में मुख्य रूप से महाराष्ट्र, तमिलनाडु, आंध्रप्रदेश, कर्नाटक, उत्तरप्रदेश और बिहार जैसे राज्यों में कोरोना का संक्रमण तेजी से फैल रहा है। इन राज्यों में रविवार को कुल मिलाकर 43,552 नए संक्रमित मिले, जोकि रविवार को मिले 60,409 नए संक्रमित मरीजों का 72.09% है। यदि इसमें उन राज्यों को शामिल किया जाए जहां 1000 से अधिक मरीज प्रतिदिन मिल रहे हैं तो यह संख्या 54,965 पर पहुंच जाती है जो कि रविवार को मिले 60,409 नए संक्रमित मरीजों का 90.99% है। इसमें असम की संख्या शामिल नहीं है।
    इस प्रकार यह कहा जा सकता है कि महाराष्ट्र, तमिलनाडु, आंध्रप्रदेश, कर्नाटक, दिल्ली, उत्तरप्रदेश, पश्चिम बंगाल, बिहार, तेलंगाना, गुजरात, राजस्थान, ओडिशा, केरल जैसे राज्यों से 90% से अधिक नए मरीज मिल रहे हैं। इनमें भी शुरू के 6 राज्यों की स्थिति ज्यादा गंभीर है जहां 70% मरीज मिल रहे हैं। इस सूची में मध्यप्रदेश जैसे बड़े राज्य का ना होना सुकून की बात है जहां की जनसंख्या 7 करोड़ के करीब है। किंतु जरा सी ढील देने पर किसी भी राज्य में केरल जैसी स्थिति पैदा हो सकती है जहां कोरोना नियंत्रण होने के बाद फिर से बड़ी तादाद में नए संक्रमित मिलने लगे हैं।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *