Sat. Oct 23rd, 2021

    वॉशिंगटन। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अमेरिकी स्कूलों पर फिर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि अमेरिका के बहुत से स्कूलों में कट्टर वामपंथी भावना सिखाई जा रही है। अमेरिका के मिनियापोलिस में एक अश्वेत नागरिक जॉर्ज फ्लॉयर्ड की मौत के बाद भड़की हिंसा के लिए भी ट्रंप ने वामपंथ को ही जिम्मेदार बताया था। उन्होंने यह भी कहा था कि इसको लेकर जारी आंदोलन के पीछे भी वामपंथी विचारधारा को मानने वाली एंटीफा काम कर रही है। ट्रंप ने ट्वीट कर कहा कि बहुत सारे विश्वविद्यालय और स्कूल शिक्षा को छोड़कर सिस्टम रेडिकल लेफ्ट भावना प्रसारित कर रहे हैं। इसलिए, मैं ट्रेजरी विभाग से कह रहा हूं कि वे अपनी कर-मुक्त स्थिति या फंडिंग की फिर से जांच करें। जो कि इस विचारधारा के प्रचार या कानून के खिलाफ होने पर खत्म कर दी जाएगी। हमारे बच्चों को शिक्षित होना चाहिए, न कि उन्हें प्रेरित करना चाहिए! दरअसल, अमेरिका में फासीवाद के विरोधी लोगों को कहते हैं। ये लोग नव-नाजी, नव-फासीवाद, श्वेत सुपीरियॉरिटी और रंगभेद के खिलाफ होते हैं और सरकार के विरोध में खड़े रहते हैं। इस आंदोलन से जुड़े लोग आमतौर पर शांतिपूर्ण प्रदर्शन करते हैं, रैलियां करते हैं। हालांकि, विरोध के दौरान हिंसा के भी परहेज नहीं किया जाता है।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *