Fri. Sep 24th, 2021

    इन्दौर-दिनांक 18 जून 2021– वर्तमान समय में बढ़ते सायबर अपराधों एव ऑनलाईन ठगी की रोकथाम एवं पुलिस व बैंक द्वारा बेहतर आपसी तालमेल व समन्वय के साथ नई तकनीकों का प्रयोक करते हुए कार्य करके, इन अपराधों पर नियत्रंण पाया जा सके इसी को ध्यान में रखते हुए, एचडीएफसी बैंक के सहयोग से इन्दौर पुलिस के लिये एक ऑनलाईन कार्यशाला आयोजन आज दिनांक 18.06.2021 को वेबमैक्स पर ऑनलाईन किया गया। जिसमें पुलिस महानिरीक्षक इंदौर ज़ोन इंदौर श्री हरिनारायण चारी मिश्र की विशेष उपस्थिति में इन्दौर पुलिस के अधिकारीगण/कर्मचारीगण उपस्थित रहें।

    उक्त कार्यशाला में एचडीएफसी बैंक की ओर से श्री सुनिल पंजवानी (ज़ोनल हेड-एमपी ज़ोन), श्री अर्नव सूरी (ज़ोनल हेड-काॅरर्पोरेट सेलरी), श्री प्रतीक शर्मा (ब्रांच बैकिंग हेड), सुश्री आयुषी तिवारी (एरिया एक्यूएशन हेड-एमपी ज़ोन) के साथ में जिला इन्दौर के पुलिस अधिकारियों/कर्मचारियों ने साइबर सिक्यूरिटी एक्सपर्ट व कंसलटंट आईएएमएआई श्री रक्षित टंडन से वर्तमान परिदृश्य में बढ़ते ऑनलाईन ट्रान्जेक्शन के कारण, सायबर अपराधियों द्वारा की जाने वाली ऑनलाईन ठगी व धोखाधड़ी की वारदातों की रोकथाम एवं इनसे बचने के लिये ध्यान में रखने वाली आवश्यक जानकारियां प्राप्त की एवं इनमें महत्वपूर्ण चर्चा की गयी। 
    
    आईजी इन्दौर ज़ोन श्री हरिनारायणचारी मिश्र ने कहा कि सायबर क्राईम अब आर्गेनाइज्ड क्राईम बन चुका है, इस प्रकार के अपराधों को अंजाम देने के लिये गैंग दिन-प्रतिदिन नये-नये तरीके अपनाकर, लोगों के साथ सायबर क्राईम कर रहे है। अतः पुलिस व बैंक बेहतर आपसी समन्वय व तालमेल के साथ काम करे तो, इन वित्तिय ऑनलाईन अपराधों पर बेहतर तरीके से नियंत्रण पाया जा सकता है। उन्होने बैंक व पुलिस द्वारा मिलकर नई तकनीकों का उपयोग कर कार्य करने की आवश्यकताओं पर जोर दिया गया। 
    
    इस वेबिनार में साइबर सिक्यूरिटी एक्सपर्ट व कंसलटंट आईएएमएआई श्री रक्षित टंडन जी ने सायबर अपराधों, बैकिंग व वित्तिय फ्राड के विभिन्न विषयों पर चर्चा की गयी, जिसमें प्रमुख रूप से वर्तमान परिवेश में बदलते हुये सायबर अपराध के स्वरूप, सायबर अपराध के प्रकार- जैसे सोशल मीडिया प्लेटफार्म- फेसबुक, ट्विटर, व्हाट्सऐप, यूट्यूब, स्काईप, ईमेल से संबंधित समस्त प्रकार के अपराध, आनलाईन बैकिंग फ्रॉड, यूपीआई आधारित फ्राॅड, विभिन्न वाॅलेट्स से होने वाले अपराध आदि के बारें में विस्तार से बताया। सायबर अपराधों की विवेचना के दौरान किस प्रकार से विभिन्न तकनीकों का उपयोग कर, Digital Evidence collection कर सकते है, इसके बारें में भी महत्वपूर्ण जानकारी दी गयी। 
    
    साथ ही हम अपने डाटा को कैसे सुरक्षित रख सकते है इस पर भी चर्चा करते हुए, उक्त धोखाधड़ी हेतु कानूनी प्रावधान एवं उनका नयी तकनीको का उपयोग कर बेहतर तालमेल से, इन ऑनलाईन अपराधों पर नियत्रंण हेतु की जाने वाली आवश्यक कार्यवाही के संबंध में महत्वपूर्ण जानकारियां भी साझा की गयी।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *