Friday ,22-Mar-19 ,

झारखंड में पांच साल में बढ़े 20 लाख मतदाता

  • Post on 2019-03-14

झारखंड में पिछले पांच सालों में 20.19 लाख मतदाताओं की संख्या बढ़ी है. चुनाव आयोग से जारी आंकड़ों के अनुसार 2014 में राज्य में 1.99 करोड़ मतदाता थे, लेकिन 30 जनवरी 2019 तक 2.19 करोड़ मतदाता हो गए हैं. इनमें 1.15 करोड़ पुरूष और 1.04 करोड़ महिला मतदाता हैं. पिछले लोकसभा चुनाव में मतदान प्रतिशत केवल 63.84 फीसदी रहा था. चुनाव आयोग लगातार मतदान प्रतिशत बढ़ाने का प्रयास कर रहा है. इसी का नतीजा है कि 2014 में विधानसभा चुनाव में 66.47 फीसदी मतदान हुआ था. आयोग ने उम्मीद जताई है कि इस बार के लोकसभा चुनाव में मतदान का प्रतिशत और बढ़ेगा. झारखंड में 14 लोकसभा सीटें आती हैं. शहर के मुकाबले ग्रामीण क्षेत्रों में अधिक पोलिंग बूथ हैं. आयोग के अनुसार कुल पोलिंग बूथों का शहर में 14.95 और ग्रामीण में 85.05 फीसदी हैं. इनमें से 94.20 फीसदी पोलिंग बूथ पर रैंप की व्यवस्था है. बिजली वाले 80.30%, पेयजल सुविधा युक्त 97.65%, शौचालय युक्त 97.66% और शेड के साथ वेटिंग रूम वाले 93.31% पोलिंग बूथ हैं. पहली बार ईवीएम पर उम्मीदवारों की फोटो इस बार चुनाव में सभी बूथों पर वीवीपैट के इस्तेमाल किये जायेंगे. इसके तहत वोटिंग के बाद मतदाताओं को पर्ची दी जाएगी कि उन्होंने किसे वोट डाला. लोकसभा चुनाव के दौरान पहली बार ईवीएम मशीन पर चुनाव चिह्न के साथ उम्मीदवारों के फोटो होंगे. जीपीएस से वीवीपैट बंडलों की निगरानी की जाएगी. महिलाओं के लिए 198 पिंक मतदान केंद्र रांची लोकसभा क्षेत्र में महिलाओं के लिए विशेष मतदान केंद्र बनाए गए हैं. इन मतदान केंद्रों को पिंक बूथ का नाम दिया गया है. रांची लोकसभा चुनाव के लिए रांची शहरी क्षेत्र जिसमें खिजरी, रांची, हटिया और कांके विधानसभा क्षेत्र के मतदाता हिस्सा लेंगे. ऐसे 198 मतदान केंद्रों को पिंक मतदान केंद्रों के रूप में चयनित किया गया है.