आलेख़

सभी के लिए चुनौती बना आतंकवाद

अभी हाल ही में जम्मू - कश्मीर के पुलवामा जिले में घटित आतंकवादी घटना ने पूरे देश को हिलाकर रख दिया जिसमें आतंकवादी स...

Read More
पुलवामा से क्या सीखे ?

जैसा कहा गया हैं की हर क्षण हमारे लिए शिक्षक हैं और अनुभव बढ़ाता हैं। वैसे हम चौबीस घंटे चौकस रहते हैं और उसमे चूक हो...

Read More
इस चुनाव धर्म और जाति की बातें करने वालों को दें माकूल जवाब

लोकसभा चुनाव 2019 के मद्देनजर तमाम राजनीतिक दलों ने मतदाताओं के मन को टटोलने और अपनी दमदार उपस्थिति दर्ज करवाने का क...

Read More
प्रजातंत्र के स्तम्भों में दरार......?

हमारे देश के प्रजातंत्री महल के प्रमुख तीनों स्तंभों में सिर्फ सत्तर साल में ही दरार नजर आने लगी है, हमारे प्रजातं...

Read More
आतंकी हमले के बाद भारत को अंतर्राष्ट्रीय समर्थन के निहितार्थ

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा जिले में हुए आत्मघाती आतंकी हमले के बाद देश ही नहीं बल्कि दुनियाभर से तीखी प्रतिक्रियाएं ...

Read More
सुन ले दुश्मन कान खोल के अब हम तुझ को कहीं का ना छोड़ेगे जैसे ढाका तोड़ दिया अब लाहौर कराची तोड़ेंगे।

बेचैन की पाती भारतवासियों के नाम। प्रिय देशवासियों । सीआरपीएफ के जवानों पर हुए कायराना आतंकी हमले से सारे देश मे...

Read More
दिखाएं अब 56 इंच का सीना

कश्मीर में हुए 44 जवानों के बलिदान ने देश का दिल दहला दिया है। लोग चाहते हैं कि इस खून का बदला खून से लिया जाए। इतना ही ...

Read More
सरकारें बदलती रहें तो अच्छा है...

कुछ चीजें हमें प्रकृति से सीखना चाहिए यूं तो प्रकृति हमें बहुत पहले से ही शुभ- अशुभ का संदेश देना शुरु कर ही देती है...

Read More
चुनावी काठ की हांडी से कितना सधेगा मतदाता

काठ की हांडी चूल्हे पर एक बार ही चढ़ाई जा सकती है, उसके बाद यदि दोबारा उसे चढ़ाने और भोजन बनाने का प्रयास किया गया तो ...

Read More
राहुल गांधी लोकसभा के नतीजों से पहले कयासबाजी क्यों?

प्रियंका गांधी को कांग्रेस का महासचिव बनाये जाने के बाद भाजपा के बड़े-बड़े नेताओं की हास्यास्पद प्रतिक्रियाएं सा...

Read More
शराबखोरों को कौन समझाए ?

दिल्ली के कितने नौजवान शराबखोरी करते हैं, यह जानने के लिए एक शराब-विरोधी संस्था ने दिल्ली के 10 हजार युवक-युवतियों स...

Read More
बाजारवाद के इस दौर में प्रेम भी तोहफों का मोहताज़ हो गया

वैलेंटाइन डे, एक ऐसा दिन जिसके बारे में कुछ सालों पहले तक हमारे देश में बहुत ही कम लोग जानते थे, आज उस दिन का इंतजार क...

Read More
संविधान ने प्रधानमंत्री को ’तानाशाह‘ बनाया.....?

अब इसे संविधान निर्माताओं की भूल कहें या उनकी भावी कल्पनाओं का अभाव कि हमारे देश के संविधान ने लोकतंत्र की आड़ में ...

Read More
हिंदीः भारत सीखे अबूधाबी से

संयुक्त अरब अमारात याने दुबई और अबूधाबी ने अब अपनी अदालतों में हिंदी को भी मान्यता दे दी है। अरबी और अंग्रेजी तो वह...

Read More
राजनीतिक उठापटक में क्यों अटक गया है देश?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सवर्णों को 10 प्रतिशत आरक्षण दिए जाने की घोषणा की तो उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवे...

Read More
सियासी लड़ाई भ्रष्टाचार से या मोदी से ?

क्या राहुल रॉफेल डील से सचमुच असंतुष्ट हैं? अगर हाँ, तो जैसा कि रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा, उन्हें ठोस सबूत...

Read More
प्रियंका गांधी : इतिहास में परिवार और परिवार का इतिहास

इन दिनों प्रियंका गांधी को कांग्रेस का महासचिव बनाये जाने से दोनों तरफ के लोगों में भूचाल जैसी हालत देखी जा रही है...

Read More
शरद ऋतु की विदाई का पर्व है बसन्त पंचमी

बसन्त पंचमी एक प्रसिद्ध भारतीय त्योहार है। इस दिन विद्या की देवी सरस्वती की पूजा सम्पूर्ण भारत में बड़े उल्लास के ...

Read More
मौसम के बिगड़ते मिजाज का नमूना बारिश, ओले और गर्मी

हाल ही में दिल्ली-एनसीआर में जबर्दस्त बारिश के साथ ओले पड़े, जिससे सड़कें सफेद बर्फ की चादर से ढंकी हुई नजर आईं। लोग...

Read More
अपनों की नाराजगी झेलते प्रधानमंत्री मोदी

देश के गरीबों व असहायों को अपने हाल पर छोड़कर अब देश में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी पूरे मनोयोग से लोकसभा चुनाव पर ...

Read More
महिलाओं का मंदिर-प्रवेश

केरल के सबरीमाला मंदिर के देवस्वम बोर्ड ने अचानक शीर्षासन कर दिया है। जब देश के सर्वोच्च न्यायालय ने सितंबर 2018 में ...

Read More
राष्ट्रपति के अभिभाषण पर मोदी का जवाब और आत्मविश्वास

राष्ट्रपति के अभिभाषण का जवाब देते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विपक्ष के आरोपों पर जिस आत्मविश्वास के साथ अ...

Read More
फिर युद्ध न हो अयोध्या में

कुंभ के अवसर पर आयोजित धर्म-संसद में विश्व हिंदू परिषद ने जो घोषणा की है, उसके कारण देश के रामभक्त बेहद परेशान दिख र...

Read More
आखिर देश में कब तक होते रहेंगें रेल हादसे?

एक फरवरी को संसद में बजट पेश करते हुये वित्त मंत्री का प्रभार भी संभाल रहे रेल मंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि भारतीय रे...

Read More
बढ़ती आबादी और बच्चों के अधिकार

भारत में एक वर्ग ऐसा है जो शिद्दत से मानता है कि सरकारी रीति-नीति और नियम-कायदों के कारण तथा कुछ वर्गों द्वारा अपने ...

Read More
आम आदमी को अच्छे दिनों का अहसास कराता बजट

विपक्ष भले ही वर्तमान सरकार के इस आखरी बजट को चुनावी बजट कहे और कार्यवाहक वित्तमंत्री पीयूष गोयल के बजट भाषण को चु...

Read More
तिलस्मी दुनियां का तिलस्मी बजट

आमचुनाव से पूर्व वर्तमान केन्द्र की भाजपा सरकार का अंतरिम बजट आ ही गया जिसकी उम्मीद जैसी की जा रही थी, ठीक वैसा ही ब...

Read More
बेरोजगारीः कोरी जुमलेबाजी

वित्तमंत्री पीयूष गोयल का बजट-भाषण इतना प्रभावशाली था कि विपक्ष तो हतप्रभ-सा लग ही रहा था। वह अकेला भाषण नरेंद्र म...

Read More
राम मंदिर: बहानेबाजी

कहावत है कि मरता, क्या नहीं करता ? सरकार को पता है कि अब राम मंदिर ही उसके पास आखिरी दांव बचा है। यदि यह तुरुप का पत्ता ...

Read More
जोश और होश के साथ एकजुटता से आगे बढ़ने की आवश्यकता

आजादी के बाद से देश ने जो तरक्की के आयाम छुए उसमें सभी का सहयोग और अथक परिश्रम शामिल है। किसी के कार्य को कम करके आंक...

Read More

आंचलिक ख़बर